Raj Express
www.rajexpress.co
Call Ringing Duration
Call Ringing Duration|Kavita Singh Rathore -RE
व्यापार

रिलायंस Jio के 'रिंग ड्यूरेशन' फैसले पर एयरटेल का रिएक्शन

कॉल रिंग ड्यूरेशन को लेकर चल रही, टेलिकॉम कंपनियों की लड़ाई को सुलझाने के लिए TRAI ने 14 अक्टूबर को एक बैठक बुलाई है, फ़िलहाल एयरटेल और वोडाफोन कंपनियों ने अपने कॉल के रिंग ड्यूरेशन को कम कर लिया है।

Kavita Singh Rathore

Kavita Singh Rathore

हाइलाइट्स :

  • एयरटेल ने दिया रिलायंस Jio के फैसले पर रिएक्शन

  • 14 अक्टूबर को होगी टेलिकॉम कंपनियों की बैठक

  • टेलिकॉम कंपनियों का स्टैंडर्ड रिंग टाइम होता है 30 सेकेंड

  • TRAI सुलझाएगी टेलिकॉम कंपनियों का विवाद

राज एक्सप्रेस। कुछ दिन पहले रिंग ड्यूरेशन को लेकर छिड़े टेलीकॉम कंपनियों के विवाद के बाद अब एयरटेल (Airtel) और वोडाफोन (Vodafone) ने भी अपने कॉल के रिंग ड्यूरेशन (Call Ringing Duration) को कम करने का फैसला ले लिया है, बताते चलें कि, यह रिंग ड्यूरेशन को लेकर विवाद कंपनी रिलायंस Jio के रिंग ड्यूरेशन को 30 सेकेंड से घटा कर 25 सेकंड करने के कारण शुरू हुआ था।

अन्य कंपनियों ने भी की अवधि कम :

अब एयरटेल (Airtel) और वोडाफोन (Vodafone) ने भी कॉल करते समय बजने वाली रिंग की समय अवधि को 30 सेकेंड से घटा कर 25 सेकंड कर दिया है, जो रिलायंस Jio के रिंग ड्यूरेशन की अवधि भी है। ज्यादातर टेलिकॉम कंपनियों का स्टैंडर्ड रिंग टाइम 30 सेकेंड का होता है। इसके अलावा ग्लोबल लेवल पर रिंग ड्यूरेशन की अवधि 15 से 20 सेकेंड तक की है।

TRAI की बैठक :

सरकार द्वारा इस आउटगोइंग रिंग की समय अवधि 45 सेकेंड तय की गई है, लेकिन कंपनियों के बीच चल रहे विवाद को देखते हुए TRAI ने 14 अक्टूबर को टेलिकॉम कंपनियों की एक बैठक बुलाई है, जिसमे इसी मुद्दे को लेकर बात की जाएगी एवं समय अवधि के मामले को निपटाया जाएगा। वहीं अन्य टेलिकॉम कम्पनियों की Jio के खिलाफ बयानबाजी चालू है। आपकी जानकारी के लिए बता दे कि, कॉल ड्यूरेशन को लेकर 6 सितंबर को ट्राई और कई टेलिकॉम कंपनियों (एयरटेल, वोडाफोन, बीएसएनएल और एमटीएनएल) की एक बैठक हो चुकी है।

एयरटेल के आरोप :

एयरटेल कंपनी, Jio पर इंटरकनेक्ट यूजेज चार्जेस को मनमाने हिसाब से तय करने का इल्जाम पहले ही लगा चुकी है। अब कंपनी ने एक नया बयान दिया है कि, रिंग की समय अवधि को कम करने से स्पेक्ट्रम को नुकसान नहीं पहुंचता है। एयरटेल ने Jio पर यह इल्जाम भी लगाया कि, रिंग की समय अवधि कम करने से जियो अधिक कॉल रिसीव करेगा, जिससे इंटरकनेक्ट यूजेज चार्जेस में भी कमी आ जाएगी। इस पर रिलायंस Jio ने अपनी बात रखते हुए कहा कि, हमे रिंग की समय अवधि को अंतरराष्ट्रीय स्तर के हिसाब से ही तय करके बदलाव किया है। रिलायंस Jio का फैसला जानने के लिए क्लीक करे