अलीबाबा के संस्थापक जैक मा लापता!
अफ्रीकाज़ बिज़नेस हीरोज़ शो में नहीं हुए शामिल।- Social Media

अलीबाबा के संस्थापक जैक मा लापता!

अलीबाबा और फिनटेक जायंट एंट ग्रुप के साथ ईकॉमर्स साम्राज्य का निर्माण करने वाले पूर्व अंग्रेजी शिक्षक जैक मा चीन के इंटरनेट अग्रदूत हैं।

हाइलाइट्स –

  • अरबपति कारोबारी लापता!

  • अलीबाबा संस्थापक तीन माह से नहीं दिखे!

  • चीन के बैंकिंग कानून सुधार पर दिया था भाषण

राज एक्सप्रेस। क्या चीन के अरबपति कारोबारी जैक मा लापता हैं? यह सवाल जैक मा के टैलेंट शो 'अफ्रीकाज बिजनेस हीरोज' के दौरान उनके नजर नहीं आने पर गहरा गया है। शो में उनकी जगह कोई दूसरा प्रतिनिधि नजर आया। गौरतलब है कि अलीबाबा के संस्थापक जैक मा को अक्टूबर के बाद से नहीं देख गया है।

दो महीने से अधिक समय तक जनता की नज़र से गायब रहने के बाद, चीनी मूल के अरबपति और अलीबाबा के संस्थापक जैक मा के लापता होने का संदेह है। इसे चीन सरकार के साथ उनके गहन संघर्ष की कड़ी माना जा रहा है।

अलीबाबा और फिनटेक जायंट एंट ग्रुप (Ant Group) के साथ मिलकर ईकॉमर्स साम्राज्य का निर्माण करने वाले पूर्व अंग्रेजी शिक्षक जैक मा को चीन के इंटरनेट अग्रदूतों में अग्रणी दर्जा प्राप्त है।

अफ्रीकाज़ बिज़नेस हीरोज़

उन्हें अपने स्वयं के प्रतिभा शो (talent show), 'अफ्रीकाज़ बिज़नेस हीरोज़’ (‘Africa’s Business Heroes') के अंतिम एपिसोड में एक जज के रूप में उपस्थित होना था, लेकिन वे शामिल नहीं हुए।

इस कारण उनकी तस्वीरें कथित तौर पर शो की वेबसाइट से हटा दी गईं। शो अफ्रीकी उद्यमियों को 1.5 मिलियन डॉलर की पुरस्कार राशि के लिए प्रतिस्पर्धा करने का मौका प्रदान करता है।

"एक शेड्यूल संघर्ष के कारण श्री मा अब इस साल की शुरुआत (2020) में अफ्रीका के बिज़नेस हीरोज़ की अंतिम जज पैनल का हिस्सा नहीं बन सके।"

अलीबाबा के प्रवक्ता के हवाले से जैसा कहा गया।

एंट ग्रुप पर शिकंजा -

हाल के महीनों में, 24 अक्टूबर को शंघाई में एक विवादास्पद भाषण देने के बाद मा का एंट ग्रुप जांच के दायरे में आ गया है। भाषण में, मा ने स्टिफ़लिंग नवाचार (stifling innovation) के लिए चीन के नियमों की आलोचना की थी।

फटकार और निलंबन -

इसके पहले जैसा दो सूत्रों ने रायटर को बताया था कि, कई वरिष्ठ वित्तीय नियामक अधिकारी जैक मा के आलोचना करने के मामले पर बेहद नाराज थे।

मामले में चीनी अधिकारियों ने मा को फटकार लगाई साथ ही एंट ग्रुप की ब्लॉकबस्टर 37 बिलियन डॉलर प्रारंभिक सार्वजनिक पेशकश (आईपीओ-IPO) को निलंबित कर दिया। आईपीओ पर रोक लगने के बाद से जैक मा को सार्वजनिक रूप से नहीं देखा गया है।

हुआवेई पर रिपोर्ट -

रिपोर्ट में कहा गया है कि राज्य के नियामकों ने भी इस बात की रिपोर्ट तैयार करना शुरू कर दी है कि; कैसे एंट ग्रुप ने हुआवेई (Huabei) जैसे डिजिटल वित्तीय उत्पादों जो एक वर्चुअल क्रेडिट कार्ड सेवा है, से गरीब और युवा लोगों को ऋण के लिए प्रोत्साहित किया।

राज्य परिषद के सामान्य कार्यालय ने कथित तौर पर मा के भाषण के बारे में सार्वजनिक भावना पर एक रिपोर्ट तैयार की और उसे राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Xi Jinping) सहित सीनियर लीडर्स को सौंपा है।

भारत में निवेश –

ब्लूमबर्ग बिलिनायर्स इंडेक्स की सूची में पिछले साल जून मंथ में जैक मा की संपत्ति 48 अरब डॉलर आंकी गई थी। चीन के सबसे अमीर शख्स में शुमार मा की कंपनी अलीबाबा ने भारत सहित दुनिया की तमाम कंपनियों में बड़ा निवेश किया है।

इस बात पर नाराजगी -

पिछले साल जैक मा ने 24 अक्टूबर को दिये एक एक भाषण में चीन की कानूनी व्यवस्था की आलोचना करते हुए चीन में बैंकिंग से जुड़े नियमों की तुलना 'बुजुर्गों के क्लब' से की थी। कहा था कि पुराने नियमों के कारण नवाचार बढ़ावा नहीं मिल पा रहा।

उन्होंने अगली पीढ़ी और युवाओं के लिए नए नियम और कानून बनाने की भी वकालत की थी। इस भाषण के बाद से ही चीन के शीर्ष नेताओं की वक्र दृष्टि उन पर पड़ी थी।

डिस्क्लेमर – आर्टिकल प्रचलित रिपोर्ट्स पर आधारित है। इसमें शीर्षक-उप शीर्षक और संबंधित अतिरिक्त प्रचलित जानकारी जोड़ी गई हैं। इस आर्टिकल में प्रकाशित तथ्यों की जिम्मेदारी राज एक्सप्रेस की नहीं होगी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co