Raj Express
www.rajexpress.co
कई मामलों में कमलनाथ सरकार को घेरा
कई मामलों में कमलनाथ सरकार को घेरा|Social Media
मध्य प्रदेश

पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कई मामलों में कमलनाथ सरकार को घेरा

भाजपा के वरिष्ठ नेता नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ सरकार को एक बार फिर निशाने पर लिया है। दअरसल हाल ही में पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कई मामलों में कमलनाथ सरकार पर बयान दिए हैं।

Priyanka Yadav

Priyanka Yadav

राज एक्सप्रेस। मध्य प्रदेश के पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा बयान-बाजी को लेकर चर्चा में बने हुए हैं। भाजपा के वरिष्ठ नेता नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ सरकार को एक बार फिर निशाने पर लिया है। दअरसल हाल ही में पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कई मामलों में कमलनाथ सरकार को घेरा और अलग-अलग बयान दिए हैं।

पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा का बयान-

मध्यप्रदेश सरकार के पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा का कहना है कि- पूरे प्रदेश मे माइनिंग माफिया हावी हैं, नर्मदा की छाती को चीरा जा रहा है, प्रदेश अंधेरे की गर्त मे जा रहा है।

"साल भर में इस सरकार ने क्या किया, किसान बीमा राशि क्यों नहीं दे रही सरकार, अतिवृष्टि से हुई नुकसान की राशि आज तक नहीं मिली,किसानों का बोनस नहीं दे पाई सरकार"

पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा

उन्होंने कहा कि :

पूर्व महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस के वरिष्ठ नेता हैं, ज्योतिरादित्य सिंधिया की उपेक्षा हो रही है, जिसके कारण वो खुले मंच से विरोध कर रहे हैं, सीएम और मंत्रियों का पूरा समय सरकार बचाने में जा रहा है।

ये है सिंधिया का मामला

क्या सिंधिया हैं कांग्रेस से नाराज, बदलेंगे पार्टी?

कांग्रेस नेता और पूर्व सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ट्विटर हैंडल पर अपना इन्फो प्रोफाइल बदल लिया है। उन्होंने सांसद और केंद्रीय मंत्री जैसे पूर्व पदों को हटाकर खुद को समाजसेवी और क्रिकेट प्रेमी बताया है। इस बदलाव के बाद लोगों ने कयास लगाने शुरू कर दिए और इसे महाराष्ट्र के घटनाक्रम से जोड़ने का प्रयास भी किया गया।

Twitter बायो को लेकर मचे बवाल पर सिंधिया ने पेश की सफाई

वहीं दूसरी और, सिंधिया का कहना है कि-ऐसा उन्होंने डिटेल को शॉर्ट करने के लिए किया है और वह एक महीने पहले ही ऐसा कर चुके थे। महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव से पहले सिंधिया को वहां का चुनाव प्रभारी बनाया गया था। मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव के समय सिंधिया को मुख्यमंत्री बनाने के साथ ही प्रदेश अध्यक्ष बनाने की मांग भी पार्टी में उनके समर्थक समय-समय पर उठाते रहे हैं। इसके बाद सिंधिया को लोक सभा चुनाव में पश्चिमी उप्र का प्रभारी और बाद में महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव का प्रभारी बना दिया गया।

कांग्रेस कार्यकर्ताओं के सुझाव के चलते किया है बदलाव:

प्रदेश कांग्रेस प्रवता पंकज चतुर्वेदी ने मीडिया से चर्चा में कहा कि यह कोई नया मामला नहीं है। श्री सिंधिया ने एक माह पूर्व अपनी प्रोफाइल में यह बदलाव किया है। उन्होंने कहा कि इससे पूर्व की प्रोफाइल में उनके नाम के साथ पूर्व लोकसभा सांसद गुना एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री लिखा था, लेकिन कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने इसे संक्षिप्त करने का सुझाव दिया था। इसके चलते उन्होंने यह बदलाव किया है।

श्री सिंधिया की पार्टी से किसी प्रकार की नाराजगी को लेकर श्री चतुर्वेदी ने कहा कि श्री सिंधिया स्वयं कहते हैं कि, वे कांग्रेस के समर्पित कार्यकर्ता हैं। उन्होंने अपने लिए कभी कोई पद नहीं मांगा, उन्हें जो दायित्व दिया गया उसे उन्होंने निभाया है। उन्होंने दावा किया कि जब श्री सिंधिया की ओर से किसी तरह की कोई मांग ही नहीं है, तो नाराज़गी किस बात की होगी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।