सरकार ने कोयला संकट को हल नहीं किया तो बहुत बड़ा संकट पैदा हो जाएगा: मनीष सिसोदिया
सरकार ने कोयला संकट को हल नहीं किया तो बहुत बड़ा संकट पैदा हो जाएगा: मनीष सिसोदियाSocial Media

सरकार ने कोयला संकट को हल नहीं किया तो बहुत बड़ा संकट पैदा हो जाएगा: मनीष सिसोदिया

दिल्‍ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया आज प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कोयला और बिजली संकट को लेकर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा- वे सब कह रहे हैं कि, कोयला संकट है लेकिन मोदी सरकार मानने को तैयार नहीं है।

दिल्‍ली, भारत। दिल्‍ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया आज शाम के समय एक अहम प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया। इस दौरान उन्‍होंने देश में इन दिनों सबसे अधिक सुर्खियों में छाए मुद्दे यानी कोयला और बिजली संकट को लेकर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए केंद्र की मोदी सरकार पर निशाना साधा है।

बिजली घरों से हमें कोयले की कमी की सूचना मिल रही है :

दिल्‍ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा- पूरे देश में कोयले की कमी है लेकिन केंद्र सरकार कह रही है कि कोयले की कोई कमी नहीं है। बिजली घरों से हमें कोयले की कमी की सूचना मिल रही है। अगर केंद्र सरकार ने कोयला संकट को हल नहीं किया तो देश के सामने बहुत बड़ा संकट पैदा हो जाएगा।

मोदी सरकार ने बिजली संकट पर आंखें मूंद लीं। सीएम अरविंद केजरीवाल और अन्य सीएम ने उठाया मुद्दा, लेकिन केंद्र ने आंखें मूंद लीं। समाधान ढूंढ़ने की बजाय आक्सीजन संकट की तरह कोयला संकट से केंद्र भाग रहा। कोयला संकट=बिजली संकट=उद्योग संकट=आपदा

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया

BJP से देश नहीं चल रहा :

इतना ही नहीं दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने भारतीय जनता पार्टी (BJP) पर जोरदार निशाना साधते हुए यह बड़ी बात भी कही कि, ''BJP से देश नहीं चल रहा। वो बहाने ढूंढ रहे हैं हर संकट से भागने के। पहले ऑक्सीजन संकट के वक्त मोदी सरकार आंख बंद कर बैठी रही और अब फिर बेशर्मी से कह रही है, कोई कोयला संकट नहीं है।"

मनीष सिसोदिया ने इस दौरान आगे यह भी कहा- दिल्ली सरकार, पंजाब सरकार, आंध्र सरकार, राजस्थान सरकार, गुजरात सरकार, उत्तर प्रदेश सरकार, वे सब कह रहे हैं कि कोयला संकट है, लेकिन मोदी सरकार मानने को तैयार नहीं है। आंखें बंद करने से हर संकट का समाधान नहीं हो जाता।

बता दें कि, इससे पहले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर राष्ट्रीय राजधानी दिल्‍ली को बिजली की आपूर्ति करने वाले बिजली संयंत्रों को पर्याप्त कोयला और गैस देने के लिए प्रधानमंत्री कार्यालय से हस्तक्षेप करने का अनुरोध किया था।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.