IND vs ENG : फॉलोऑन नहीं दिया इंग्लैंड ने, भारत के पास अब भी वापसी का मौका
विकेट का जश्न मनाते भारतीय खिलाड़ी।- Social Media

IND vs ENG : फॉलोऑन नहीं दिया इंग्लैंड ने, भारत के पास अब भी वापसी का मौका

क्या 420 रनों के लक्ष्य को इंडिया हासिल कर पाएगी, भारत जीतेगा-हारेगा या मैच ड्रॉ होगा? जानिये चौथे दिन के खेल की हाइलाइट्स के बारे में -

हाइलाइट्स –

  • नहीं मिला Follow On

  • बचने थी 121 रनों की दरकार

  • अश्विन-सुंदर ने की भरसक कोशिश

  • अश्विन ने कराई मैच में भारत की वापसी

राज एक्सप्रेस। पहले टेस्ट में जैसी उम्मीद थी भारतीय बल्लेबाज इंग्लैंड के 578 रनों के विशाल स्कोर तक नहीं पहुंच पाये। चौथे दिन फॉलोऑन टालने के लक्ष्य 121 रनों की चुनौती की बाधा भारत के बाकी बचे 4 बल्लेबाज पार नहीं कर पाए। हालांकि इंग्लैंड ने भारत को फॉलोऑन खेलने आमंत्रित नहीं किया।

कहानी अब तक –

तीसरे दिन भारत ने 74 ओवर खेलकर 6 विकेट के नुकसान पर 257 रन बनाए थे। मेजबान भारतीय टीम तीसरे दिन इंग्लैंड से 321 रन पीछे थी।

फॉलोऑन का गणित –

भारत को फॉलोऑन (follow on) से बचने के लिए 121 रनों की जरूरत थी। दरअसल फॉलोऑन का नियम कहता है कि टेस्ट, प्रथम श्रेणी या एक से ज्यादा दिनों के क्रिकेट मैच में बाद में बल्लेबाजी करने वाली टीम के रनों का कुल योग पहले बल्लेबाजी करने वाली टीम के टोटल से 200 रन या इससे अधिक रन कम होने पर पहले बल्लेबाजी करने वाली टीम बाद में बल्लेबाजी करने वाली टीम को फिर से बल्लेबाजी करने कह सकती है।

भारत को जरूरत –

इस लिहाज से इंग्लैंड के 578 रनों के टोटल की दशा में 200 रनों के अंतर की खाई को पाटने के लिए भारत को 121 रनों की दरकार थी। इंग्लैंड के टोटल के बजाय फॉलोऑन टालने के लक्ष्य 121 रनों की चुनौती की बाधा भारत के बाकी बचे 4 बल्लेबाज पार नहीं कर पाए।

भारत के अंतिम चार विकेट 80 रन ही जुटा पाए और भारतीय टीम पहली पारी में 337 रनों पर सिमट कर रह गई। आपको बताएं भारत को फॉलोऑन के खतरे को टालने के लिए 379 रन की जरूरत थी।

टीम की ओर से विकेट कीपर ऋषभ पंत ने सबसे ज्यादा 91 जबकि वॉशिंगटन सुदंर ने 85 रनों की नाबाद पारी खेली। भारत जहां फॉलोऑन नहीं टाल पाया वहीं इंग्लैंड को पहली पारी में 241 रनों की बढ़त मिल गई।

सातवां विकेट –

तीसरे दिन का खेल समाप्त होने के वक्त वॉशिंगटन सुंदर 33(68) और रविचंद्रन अश्विन 8(54) क्रीज पर डटे थे। चौथे दिन इस जोड़ी ने मैच में भारत की वापसी की आस जगाई। लेकिन चौथे दिन 87वें ओवर में अश्विन के सातवें विकेट के रूप में भारत को पहला झटका लगा। ऑलराउंडर अश्विन ने 91 गेंदों पर 31 रनों की पारी खेली।

040-

यह एसटीडी कोड नहीं बल्कि बाद के तीन बल्लेबाजों का व्यक्तिगत स्कोर है। अश्विन के आउट होने के बाद उतरे नदीम 12 गेंदों पर खाता भी नहीं खोल पाए। नदीम का कैच जैक लीच की गेंद पर स्टोक्स ने पकड़ा।

इसके बाद उतरे ईशांत ने 11 गेंदें खेलीं और 1 बाउंड्र की मदद से 4 रन बनाए। ईशांत शर्मा का कैच जेम्स एंडरसन की गेंद पर ओली पोप ने लपका।

फिर उतरे बुमराह ने 2 गेंदों का सामना किया लेकिन खाता नहीं खोल पाए। भारत के अंतिम विकेट के रूप में बुमराह का कैच स्टोक्स ने जेम्स एंडरसन की गेंद पर पकड़ा।

नाबाद लौटे वॉशिंगटन –

भारत के लिए वॉशिंगटन सुंदर ने 138 गेंदों पर 85 रनों की नाबाद उपयोगी पारी खेली। उन्होंने अपनी पारी में 12 चौके और 2 छक्के मारे।

इंग्लैंड के खिलाफ पहले टेस्ट में भारत की पहली पारी का अंत 95.5 ओवरों में 337 रनों के कुल योग पर हो गया।

डोम बेस सबसे सफल –

इंग्लैंड के डोमिनिक बेस टीम के सबसे सफल गेंदबाज रहे। बेस ने 26 ओवर में एक मैडन के साथ 76 रन देकर 4 विकेट झटके। एंडरसन, जोफ्रा आर्चर, जैक लीच के खाते में 2-2 विकेट आए। स्टोक्स को विकेट हासिल नहीं हुआ।

नहीं दिया फॉलोऑन –

इंग्लैंड के कप्तान जो रूट ने 241 रनों की लीड मिलने के बाद भारत को फॉलोऑन देने के बजाए खुद बल्लेबाजी करना पसंद किया लेकिन उनका यह निर्णय गलत साबित हुआ। राज एक्सप्रेस पर कुछ ऐसे ही निर्णय के बारे में हमने संभावना जताई थी।

तीसरे दिन बनी फॉलोऑन की स्थिति के बारे में जानने शीर्षक पर क्लिक/स्पर्श करें -

IND vs ENG : इंग्लैंड से 321 रनों से पिछड़े भारत को फॉलोऑन का कितना खतरा?

इंग्लैंड की दूसरी पारी –

241 रनों की लीड मिलने के बाद दूसरी पारी में बल्लेबाजी करने उतरी इंग्लैंड की टीम के लिए चौथे दिन बल्लेबाजी आसान नहीं रही। इंग्लैंड के बल्लेबाजों पर अश्विन की फिरकी कहर बनकर टूटी।

पहला विकेट –

दूसरी पारी में इंग्लैंड का पहला विकेट जब टीम का खाता भी नहीं खुला था तब रोरी बर्न्स के रूप में टपक गया। बर्न्स को अश्विन ने दूसरी पारी के पहले ओवर की पहली ही गेंद पर रहाणे के हाथों कैच आउट कराया।

दूसरा विकेट –

ग्यारहवें ओवर की आखिरी गेंद पर इंग्लैंड को 32 रनों के कुल योग पर दूसरा झटका डोमिनिक सिबली के रूप में लगा। सिबली का कैच पुजारा ने अश्विन की गेंद पर पकड़ा। सिबली ने 37 गेंदों पर 2 चौकों की मदद से 16 रन बनाये।

तीसरा विकेट –

डेनियल लॉरेंस को ईशांत शर्मा ने अपना शिकार बनाया। इंग्लैंड के लिए तीसरे विकेट के रूप में पगबाधा आउट होने वाले लॉरेंस ने 47 गेंदों पर 1 चौके के सहारे 18 रन बनाये।

नहीं चले स्टोक्स –

पहली पारी में कहर बरपाने वाले स्टोक्स को अश्विन ने दूसरी पारी में हाथ खोलने के मौके नहीं दिये। अश्विन की गेंद पर पंत के हाथों कैच आउट होने के पहले स्टोक्स 12 गेंदों पर एक चौके की मदद से मात्र 7 रन ही बना पाये। स्टोक्स के रूप में इंग्लैंड को चौथा झटका 19वें ओवर की पहली गेंद पर लगा।

रूट का रास्ता बंद –

पहली पारी में डबल सेंचुरी मारकर महफिल लूटने वाले इंग्लैंड के कप्तान जो रूट दूसरी पारी में तेजी से रन बनाने की जुगत में थे। अपनी पारी में रूट 7 चौके भी जड़ चुके थे।

जो रूट फिर कहर बरपाते इससे पहले वे बुमराह की गेंद पर एलबीडब्ल्यू (LBW) करार दे दिये गये। रूट ने मैच जिंदा रखने की कोशिश में 32 गेंदों पर 40 रनों की तेज पारी खेली। पांचवे झटके के रूप में कप्तान रूट का विकेट 23.5 ओवरों में 101 रनों के कुल योग पर गिरा।

छठवां विकेट –

ओली पोप का विकेट शाहबाज नदीम को मिला। छठवें विकेट के रूप में आउट होने वाले पोप ने 32 गेंदों पर 3 चौकों की मदद से 28 रन बनाये। नदीम की गेंद पर पोप का कैच रोहित शर्मा ने लपका।

सातवां विकेट –

धाकड़ विकेट-कीपर बल्लेबाज जोस बटलर ने 2 चौकों और 1 छक्के के सहारे 40 गेंदों पर 24 रनों की पारी खेली। बटलर को नदीम की गेंद पर विकेट कीपर ऋषभ पंत ने स्टंपिंग आउट किया। सातवें बल्लेबाज के तौर पर बटलर का विकेट 165 रनों पर गिरा।

आठवां विकेट –

गेंदबाजी में भारतीय बल्लेबाजों के लिए सिरदर्द साबित हुए डोमिनिक बेस ने बल्लेबाजी में भी दम दिखाया। बेस ने 55 गेंदों पर 3 चौकों की मदद से 25 रनों की पारी खेली। बेस का विकेट टीम के 167 रनों के योग पर आठवें बल्लेबाज के रूप में गिरा। बेस को अंपायर ने अश्विन की गेंद पर पगबाधा आउट दिया।

नौंवा विकेट –

टीम के टोटल 178 रनों पर नाइंथ विकेट के रूप में अश्विन की गेंद पर बोल्ड आउट होने वाले जोफ्रा आर्चर ने 10 गेंदों पर 5 रन बनाये।

आखिरी विकेट –

इंग्लैंड का दसवां और आखिरी विकेट भी जेम्स एंडरसन के रूप में 178 रनों पर ही गिर गया। एंडरसन ने 2 गेंदों का सामना किया और खाता भी नहीं खोल पाए। जैक लीच 18 गेंदों पर 2 चौकों की मदद से 8 रन के व्यक्तिगत स्कोर पर नाबाद लौटे।

दूसरी पारी में इंग्लैंड –

दूसरी पारी में इंग्लैंड ने 46.3 ओवरों का सामना किया। सेकंड इनिंग में इंग्लिश टीम ने 178 रन जोड़े। इस तरह इंग्लैंड ने पहली पारी में 241 रनों की मिली बढ़त और दूसरी पारी के स्कोर 178 रन को मिलाकर भारत के सामने जीत के लिए 420 रनों का टारगेट रखा।

भारतीय गेंदबाजी –

भारत के लिए अश्विन सबसे सफल गेंदबाज रहे उनको छह विकेट मिले। नदीम ने 15 ओवरों में 2 मैडन के साथ 66 रन दिये और 2 विकेट हासिल किये। ईशांत और बुमराह को एक-एक विकेट मिला। वॉशिंगटन सुंदर को विकेट हासिल नहीं हुआ।

करिश्माई अश्विन -

भारतीय ऑलराउंडर स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने 17.3 ओवरों में 61 रन खर्च कर इंग्लैंड के 6 विकेट हासिल किये। आपको बता दें अश्विन ने टेस्ट क्रिकेट में 28वीं बार पांच या उससे ज्यादा विकेट हासिल किये हैं।

इंग्लैंड के खिलाफ उन्होंने ऐसा करिश्माई प्रदर्शन चौथी बार किया। चेन्नई में रिकॉर्ड की बात करें तो अश्विन ने इस मैदान पर टेस्ट मैच में तीसरी बार यह कारनामा किया है।

भारत दूसरी पारी –

पहले टेस्ट मैच की दूसरी पारी में इंग्लैंड से मिले 420 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम ने 13 ओवरों में एक विकेट के नुकसान पर 39 रन जोड़ लिये हैं।

एकमात्र विकेट रोहित शर्मा का गिरा जिनको जैक लीच ने बोल्ड आउट किया। शर्मा ने 1 चौके और एक छक्के के सहारे 20 गेंदों पर 12 रनों की पारी खेली।

चौथे दिन का खेल समाप्त होने के बाद शुभमन गिल 35 गेंदों पर 3 चौकों की मदद से 15 जबकि 23 गेंदों पर 1 चौके की मदद से 12 रन बनाकर पुजारा नाबाद पवेलियन लौटे। पांचवे दिन भारत को जीतने के लिए 381 रनों की जरूरत है भारत के पास अभी 9 विकेट शेष हैं।

डिस्क्लेमर – आर्टिकल स्कोरकार्ड पर आधारित है। इसमें शीर्षक-उप शीर्षक और संबंधित अतिरिक्त प्रचलित जानकारी जोड़ी गई हैं। इस आर्टिकल में प्रकाशित तथ्यों की जिम्मेदारी राज एक्सप्रेस की नहीं होगी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

AD
No stories found.
Raj Express
www.rajexpress.co