Covid-19: कोरोना का वर्तमान इलाज भविष्य के लिए खतरे की घंटी
कोरोना वायरस से सुरक्षा लेकिन सुरक्षित तरीके से।Syed Dabeer Hussain - RE

Covid-19: कोरोना का वर्तमान इलाज भविष्य के लिए खतरे की घंटी

ऐसी सोच से न केवल सहायक बैक्टीरिया से मानव की दूरी बढ़ जाएगी, बल्कि ऐसे में कुछ आवश्यक रोगाणुओं के विलुप्त होने का भी खतरा पैदा हो सकता है।

हाइलाइट्स –

  • विसंक्रमित वातावरण कितना जरूरी?

  • आपात निदान भविष्य में होगा घातक!

  • बचकर रहें लेकिन सभी सूक्ष्म जीवों से नहीं!

राज एक्सप्रेस। पूरी दुनिया कोरोना वायरस के दमन के लिए रासायनिक छिड़काव के जरिये युद्ध स्तर पर प्रयासरत है। इस कोशिश में वे सूक्ष्म जीव भी खतरे की जद में आ गए हैं जो मानव स्वास्थ्य के लिए अनुकूल माने जाते हैं। एंटीबायोटिक, सैनिटाइजर, बहुत ज्यादा संगरोध रहने के खतरों पर दुनिया के स्वास्थ्य रिसर्चर्स ने ध्यान आकृष्ट कराया है।

उपायों से खतरा -

कुछ स्वास्थ्य विशेषज्ञ कोरोना के बढ़ते असर को भयावह मान रहे हैं। उन्हें डर है कि वायरस को रोकने के लिए हमने जो तमाम जतन किये हैं कहीं वो भविष्य में मानव के लिए अहितकर न साबित हो जाएं।

एक्सपर्ट्स का मानना है कि कोरोना से बचने किये जा रहे उपायों में कुछ ऐसे भी हैं जो अभी तो मानव हित के लिए प्राथमिक रूप से आवश्यक हैं, लेकिन अगर वे लंबे समय तक जीवन चर्या में शामिल रहे तो दीर्घकाल में मानव स्वास्थ्य के लिए खतरा पैदा हो सकता है।

इस चिंता का आधार -

उनकी चिंताएं मानव माइक्रोबायोम (मानव सूक्ष्म जीव) पर केंद्रित हैं। दरअसल हमारे शरीर के अंदर रहने वाले असंख्य बैक्टीरिया की संख्या के जोड़-घटाने को लेकर यह चिंता बलवती हुई है।

वे कहते हैं कि अत्यधिक स्वच्छता प्रथाओं, अनुचित एंटीबायोटिक का उपयोग और जीवन शैली में बदलाव उन समुदायों के आगे बढ़ने के तरीकों को कमजोर कर सकता है जो बीमारी को बढ़ावा देते हैं और हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर करते हैं। हमारे शरीर और आस पास के स्थल को जीवाणु रहित (sterilize) करने पर, वे तर्क देते हैं कि, हम और अच्छे से और अधिक नुकसान कर सकते हैं!

PNAS का पेपर -

जनवरी में, स्वास्थ्य शोधकर्ताओं के एक वैश्विक संघ ने प्रोसीडिंग्स ऑफ द नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज (PNAS) में एक पेपर प्रकाशित किया है। इसमें माइक्रोबियल फॉलआउट (सूक्ष्म जीव पतन) के बारे में खतरे की चेतावनी दी गई है। चेताया गया है कि यह फॉलआउट महामारी के मद्देनजर हो ऐसा संभव है।

"अच्छे रोगाणुओं से छुटकारा पाने के बाद हमें एहसास होने लगता है कि इसका प्रतिकूल प्रभाव भी है, और हमारे स्वास्थ्य के लिए भी इसके बड़े एवं प्रमुख परिणाम हैं।"

बी. ब्रेट फिनले (B. Brett Finlay), PNAS पेपर के एक लेखक और ब्रिटिश कोलंबिया विश्वविद्यालय में माइक्रोबायोलॉजी और इम्यूनोलॉजी विभाग में प्रोफेसर.

सब कुछ अनिश्चित -

मानव माइक्रोबायोम (मानव सूक्ष्म जीव) के बारे में हम जो कुछ भी जानते हैं वह लगभग अनिश्चित है। हमारी गतिविधियां और वातावरण इसके आवरण को कैसे प्रभावित करते हैं यह सब बातें इसमें शामिल हैं।

लेकिन डॉक्टर फिनले और अन्य लोगों का तर्क है कि हमारे सामूहिक स्वास्थ्य को कीटाणुओं के साथ रहने का आदी बनाना होगा।

हमारे सैनिटाइज़र का उपयोग हमारी इच्छा पर निर्भर हो सकता है। बैक्टीरिया को समाप्त करने वाली दवाओं से भी निश्चित दूरी बनानी होगी। उन पुरानी आदतों को फिर से शुरू किया जा सकता है जो हमारे लिए उपयोगी माइक्रोबियल समुदायों का पोषण करती हैं। दूसरे शब्दों में, हमें फिर से कीटाणुओं के साथ रहना होगा।

हवा में खतरा –

दुनिया में लोग रोगाणुओं के खतरे के प्रति आगाह हो रहे हैं। अदृश्य बैक्टीरिया की एक चादर हवा में शामिल हो सकती है। जिसे हम सांस में खींचते हैं। यह हमारे शरीर के कुछ हिस्सों खासकर आंत को प्रभावित करता है।

इनमें कुछ रोगाणु और अन्य सूक्ष्म कण हमारे लिए खतरा हैं। लेकिन इनमें बहुलता अच्छे सूक्ष्म जीवों की भी है। अब इस बात के बढ़ते प्रमाण हैं कि हमारा स्वास्थ्य उनके साथ (सूक्ष्म जीवों) हमारी शुरुआती और चल रही बातचीत पर निर्भर करता है।

कम्प्यूटर से तुलना -

यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन में मेडिकल माइक्रोबायोलॉजी विभाग में प्रोफेसर डॉ. ग्राहम रूक (Dr. Graham Rook) ने प्रतिरक्षा प्रणाली की तुलना कम्प्यूटर से की है।

वह कहते हैं कि हम दैनिक जीवन में जिन सूक्ष्म जीवाणुओं का सामना करते हैं - अन्य लोगों पर और हमारे रिक्त स्थान में - वे वह डेटा हैं जो प्रतिरक्षा प्रणाली का कार्यक्रम निर्भर करते हैं और इसके संचालन को नियंत्रित करते हैं।

इन बातों का खतरा -

इन जोखिमों से वंचित, विशेष रूप से जीवन की शुरुआत में, प्रतिरक्षा प्रणाली में खराबी का खतरा होता है। एलर्जी, अस्थमा, ऑटोइम्यून विकार, मोटापा, टाइप 2 मधुमेह और अन्य पुरानी चिकित्सा स्थितियां इसका परिणाम हो सकती हैं।

हाइजीन हाइपोथीसिस विषय से महामारी विषय का अध्ययन कर रहे डेविड स्ट्रेचन ने 1989 में अवगत कराया। बताया गया कि सूक्ष्म जीवों के संपर्क में आने से वंचित रहने वाले लोगों को स्वास्थ्य समस्याओं का खतरा हो सकता है। स्वच्छता परिकल्पना समय के साथ विकसित हुई है, और विशेषज्ञ इसके कई बारीक बिंदुओं पर बहस करना जारी रखे हैं।

अब यह स्पष्ट हो गया है कि किसी व्यक्ति के स्वास्थ्य के लिए "अच्छे" बैक्टीरिया का संपर्क आवश्यक है, और यह भी कि, सूक्ष्म जीव मुक्त वातावरण में रहने से हमें और ज्यादा खतरा हो सकता है, हालांकि वैज्ञानिक इस मुद्दे पर अभी एक राय होने के बीच रास्ते पर हैं।

बनती/बिगड़ती सोच -

महामारी से पहले, डॉक्टरों और जनता दोनों के बीच बढ़ती मान्यता थी कि आधुनिक जीवन के पहलू, स्वस्थ रोगाणुओं के हमारे संतुलन को परेशान कर सकते हैं, शायद विशेष रूप से हमारी हिम्मत में, और परिणाम स्वरूप हमारे स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा रहे हैं।

माइक्रोबायोम स्कॉलरशिप गवाह -

यह विचार इतना विवादास्पद नहीं है जितना कि पूरी तरह से सराहना के लिए बहुत नया है; प्रकाशित माइक्रोबायोम स्कॉलरशिप का लगभग 95 प्रतिशत सिर्फ पिछले दशक में आया है, और दो तिहाई केवल पिछले पांच वर्षों में आया है।

लेकिन पहले से ही, अनुसंधान से पता चला है कि, प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रशिक्षित करने के अलावा, हमारे बैक्टीरिया अणुओं का उत्पादन करते हैं जो हमारी कोशिका और अंग के कामकाज को प्रभावित करते हैं।

आंत पर हमला -

PNAS पेपर के लेखकों में से एक एवं इज़रायल में वीज़मैन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस के एक प्रमुख अन्वेषक डॉ. एरन एलिनेव कहते हैं - "जिन सूक्ष्म जीवों को हम अपनी आंत में ले जाते हैं, वे मस्तिष्क, रीढ़ की हड्डी, जोड़ों या उन चीजों के काम को प्रभावित कर सकते हैं, जहां वे सूक्ष्म जीव रहते हैं।"

आंत माइक्रोबायोम ने अब तक सबसे अधिक वैज्ञानिकों का ध्यान आकर्षित किया है। मनुष्यों में रोगाणुओं के पनपने के भी कई अड्डे हैं। हमारी त्वचा पर, हमारे फेफड़ों में, हमारे दिमाग में भी - जो कि ऊतकों को मजबूत/कमजोर करने से लेकर तमाम रोल अदा करते हैं। दिल और हार्मोन्स पर भी इसका असर देखने को मिल सकता है।

तो संक्रमण की संभावना –

कुछ अनुमान हैं कि अच्छे रोगाणुओं के असंतुलन या हानि से व्यक्ति में संक्रमण की संभावना बढ़ सकती है। पिछले साल के अंत में, हांगकांग स्थित शोधकर्ताओं ने कुछ माइक्रोबायोम विशेषताओं और गंभीर कोविड-19 मामलों के बीच एक लिंक देखा।

विशेषज्ञों ने परिकल्पना की है कि अस्वस्थ आंत माइक्रोबायोम आंशिक रूप से समझ सकते हैं कि पुराने वयस्क और मोटापे या टाइप 2 मधुमेह जैसी स्थितियों के साथ गंभीर कोविड-19 बीमारी का अधिक खतरा क्यों है।

हां कुछ अटकलें भी हैं कि माइक्रोबायोम कारक कथित रूप से ज्यादा दिनों से संबंधित कोविड केस में अहम भूमिका निभाते हैं। मस्तिष्क संक्रमण, थकान और अन्य लक्षण हैं जिन्हें संक्रमण के बाद देखा गया है।

कोलंबिया विश्वविद्यालय में डिपार्टमेंट ऑफ क्लीनिकल पैथोलॉजी एंड सेल बायोलॉजी में सहायक प्रोफेसर ब्रेंट विलियम्स कहते हैं कि, "वायरल संक्रमण के प्रति हमारी प्रतिक्रिया में माइक्रोबायोम का सुझाव देने के लिए धन की एक प्रभावशाली भूमिका है।"

मानव शरीर, वर्षा के जंगल की तरह, जीवों के विशाल और सहजीवी पारिस्थितिकी तंत्र का घर है। जब वह पारिस्थितिकी तंत्र बाधित होता है, तो परिणाम होते हैं।

डॉ. फिनले कहते हैं, "हम कई चीजों को देख सकते हैं जो हम संक्रमण को रोकने के लिए अभी कर रहे हैं और यह देखते हैं कि इसका बड़ा प्रभाव कैसे हो सकता है।"

शक्तिशाली दवाएं -

चिंताओं की सूची में शीर्ष पर, शक्तिशाली एंटीबायोटिक दवाओं को स्थान मिला है। रिसर्चर कहते हैं, हमारी शक्तिशाली एंटीबायोटिक दवाओं का हानिकारक उपयोग भी खतरनाक है। यह दवाएं कुछ रोग जनकों को तो मार सकती हैं, लेकिन शरीर में स्वस्थ जीवाणुओं को भी मिटाने में समर्थ हैं।

हाल ही के एक विश्लेषण में पाया गया कि महामारी के पहले छह महीनों के दौरान, अस्पताल में दाखिल मरीजों के अध्ययन के बीच, कोविड-19 के आधे से अधिक रोगियों को उन स्थितियों में भी एंटीबायोटिक प्राप्त हुए, जहां उन दवाओं का लाभ अनिश्चित था।

जॉर्ज वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी के मिलकेन इंस्टीट्यूट स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ में प्रोफेसर और फाउंडिंग डायरेक्टर ऑफ द एंटीबायोटिक रेसिस्टेंट एक्शन सेंटर के लांस प्राइस कहते हैं कि, डॉक्टरों ने पता लगाया है कि कोरोना वायरस का इलाज कैसे करना है। एंटीबायोटिक का उपयोग कम हो गया है। वे कहते हैं, "महामारी से पहले भी, हम जानते हैं कि एंटीबायोटिक का आधा उपयोग अनुचित था।"

वे कहते हैं, "एंटीमाइक्रोबियल तत्वों से हर सतह को पोंछने या छिड़कने से लोगों को आराम मिलता है, लेकिन यह शायद हमें कोविड से बचाने के लिए बहुत ज्यादा कुछ नहीं कर रहा है।"

सूक्ष्म जीवों से स्वच्छता की कट्टरता -

दरअसल शोध कहता है कि सूक्ष्म जीवों से सुरक्षा संबंधी कट्टरता का भाव मनुष्य की भूल है। ऐसी सोच से न केवल सहायक बैक्टीरिया से मानव की दूरी बढ़ जाएगी, बल्कि ऐसे में कुछ आवश्यक रोगाणुओं के विलुप्त होने का भी खतरा पैदा हो सकता है।

डॉ। फिनले कहते हैं, "हम वास्तव में यह नहीं जानते हैं कि इस उच्च-स्वच्छता और अति-स्वच्छता का क्या प्रभाव पड़ेगा। यह सदी में सबसे बड़ा प्रयोग है और दुर्भाग्य से हमारे पास उत्तर से अधिक प्रश्न हैं।"

दूसरों पर निर्भरता -

आने वाले महीनों में, हमारे माइक्रोबायोम का स्वास्थ्य आंशिक रूप से उन लोगों की इच्छा पर निर्भर हो सकता है जिन्होंने टीका लगवाया है, और कम जोखिम में ही अपना मास्क उतारते हैं, परस्पर संभोग करते हैं आदि। सामान्य तौर पर आगामी दौर में जीवन निर्वाह के तौर-तरीकों और परंपराओं में व्यापक बदलाव देखने को मिलने वाला है। इन बदलावों के लिए आप कितना तैयार हैं?

सामाजिक प्रथाएं -

कुछ देशों में प्रचलित सामाजिक प्रथाओं में परस्पर मुलाकात के दौरान हाथ मिलाने, गले मिलने या चुंबन लेने का रिवाज है। हमने इस बात पर गौर किया हो या फिर नहीं लेकिन यह सर्व विदित सत्य है कि इस तरह के रिवाज से रोगाणुओं का आदान-प्रदान हो सकता है। इसलिए भारतीय परंपरा में दूर से नमस्ते की प्रक्रिया को अपना कर आप स्वयं एवं दूसरों की स्वास्थ्य रक्षा कर मान-मर्यादा की रस्म भी पूरी कर सकते हैं।

इतने कारकों की भूमिका -

विशेषज्ञ महामारी के खतरे के कारण हमारे सूक्ष्म जीवों के आदान-प्रदान के बारे में चिंतित हैं। वे कहते हैं कि व्यवहार कैसे करना है, इसके लिए संक्षिप्त, सार्वभौमिक रूप से उचित सलाह देना मुश्किल है। एक व्यक्ति की आयु, स्वास्थ्य, स्थान, टीकाकरण की स्थिति और अन्य सभी जोखिमों के कारण संबंधित समीकरण बदलता रहता है।

भारतीय परंपरा -

भारतीय परंपरा में स्नान-ध्यान, खान-पान, जीवन चर्या का विस्तृत वर्णन है। बस जरूरत है तो उस मूल तक दोबारा पहुंचकर जीवन में नई शुरुआत की।

सभी कुछ जीवाणु रहित करना अथवा कृत्रिम रूप से रोगाणु मुक्त वातावरण बनाने की कोशिश को कुछ विशेषज्ञों ने फिजूल माना है। उनका मानना है कि आप और आपके करीबी ने टीकाकरण करा लिया है तो फिर संक्रमण का खतरा कम हो सकता है। मतलब दोनों लोग एक-दूसरे के गले पड़ सकते हैं।

कारगर टिप्स -

स्वास्थ्य से जुड़ीं कुछ अन्य आदतें जैसे व्यायाम और पर्याप्त नींद लेना शरीर के लिए लाभदायक है। बागवानी, लंबी पैदल यात्रा और प्रकृति के साथ मेलजोल विशेष रूप से फायदेमंद हो सकता है।

कीमती सलाह यह भी है कि आप अपने जीन को नहीं बदल सकते, लेकिन आप अपने रोगाणुओं को बदल सकते हैं, वे हमारे दोस्त हैं।"

स्वस्थ जीवन का आनंद लेने के लिए हमें बैक्टीरिया और माइक्रोबायोम के महत्व एवं शारीरिक संचालन प्रक्रिया में उसके किरदार को समझकर ऐहतियाती कदम उठाने होंगे। सनद रहे पेट से जुड़े मामलों में जरा संभलकर रहें, कोरोना के मामलों में इस तरह की शिकायतें ज्यादा मिल रही हैं।

डिस्क्लेमर –आर्टिकल प्रचलित मीडिया रिपोर्ट्स पर आधारित है। इसमें शीर्षक-उप शीर्षक और संबंधित अतिरिक्त प्रचलित जानकारी जोड़ी गई हैं। इस आर्टिकल में प्रकाशित तथ्यों की जिम्मेदारी राज एक्सप्रेस की नहीं होगी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co